TECHNOLOGY

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? और ब्लॉकचैन कैसे काम करती है ?

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? पिछले कुछ दशक में टेक्नोलॉजी ने बहुत तेज़ी से प्रगति की है इस टेक्नोलॉजी में ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी को भविष्य की अर्थव्यवस्था के लिये क्रांतिकारी तकनीक माना जा रहा है आज हम जानेंगे ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ?और ब्लॉकचेन कैसे काम करती है ?

हमने पिछले कुछ सालो में बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी के बारे में ‘ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी’ शब्द को लगातार सुनते आ रहे है।
भविष्य की तैयारी के लिए इस विकसित तकनीक को सीखने के लिए आप नए है तो यह समझना जरूरी है कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? और ब्लॉकचैन कैसे काम करती है ?आइये जानते है –

1. ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ?

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? – जिस प्रकार हज़ारों-लाखों कंप्यूटरों को जोड़कर इंटरनेट का अविष्कार किया गया था , ठीक उसी प्रकार डाटा ब्लॉकों (आँकड़ों) की लंबी श्रृंखला को जोड़कर ब्लॉकचैन का अविष्कार किया गया था।ब्लॉकचेन तीन अलग-अलग तकनीकों का समायोजन है, जिसमें इंटरनेट, पर्सनल ‘की’ की क्रिप्टोग्राफी अर्थात् जानकारी को गुप्त रखना और प्रोटोकॉल पर नियंत्रण रखना आदि है।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी एक ऐसी संरचना है,जिसमे कई डेटाबेस में जनता के ब्लॉक को रिकॉर्ड किया जाता है | जिसको पीर-टू-पीयर नोड्स के माध्यम से जुड़े नेटवर्क में “चेन” के रूप में हम जानते है। सामान्य भाषा में इसके भंडारण को ‘डिजिटल लेज़र’ भी कहा जाता है।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में प्रत्येक लेनदेन मालिक के डिजिटल हस्ताक्षर से अधिकृत होते है, जो लेनदेन को प्रमाणित करता है और इसकी छेड़छाड़ होने से बचाता है। इसलिए, डिजिटल लेज़र या ब्लॉकचैन में मौजूद जानकारी अत्यधिक सुरक्षित होती है। ब्लॉकचैन की सबसे खास बात यह है की इसमें कोई भी डेटा देख सकता है, लेकिन वे इसे नष्ट नहीं कर सकता है |

Read also deepnesswriter.com/2021/03/03/gps-technology-क्या-है-और-यह-कैसे-काम-कर/(opens in a new tab)

2. ब्लॉकचेन क्यों लोकप्रिय है?

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? – मान लिया जाये की आप अपने बैंक खाते से अपने परिवार या दोस्तों को पैसे ट्रांसफर करते हैं। तो सबसे पहले आप ऑनलाइन बैंकिंग में लॉग इन करेंगे और अपने खाता संख्या और ifsc कोड का उपयोग करके किसी व्यक्ति को राशि हस्तांतरित करेंगे। जब हम लेन देन करते है, तो हमारा बैंक लेनदेन रिकॉर्ड को अपडेट करता है। यह हमको काफी सरल लगता है |

इस तरह के लेनदेन में बहुत जल्दी छेड़छाड़ की जा सकती है। जो लोग इस तरह की सच्चाई को जानते हैं वे इस प्रकार के लेनदेन का उपयोग करने से काफी सावधान रहते हैं, इसलिए पिछले कुछ सालो से तीसरे पक्ष के भुगतान अनुप्रयोगों का विकास हुआ है । क्युकी ब्लॉकचेन तकनीक बहुत सुरछित है ब्लॉकचेन में कोई भी डेटा देख सकता है, लेकिन वे इसे नष्ट या छेड़छाड़ नहीं कर सकता है |

तकनीकी रूप से देखे तो ब्लॉकचेन एक डिजिटल लेज़र है जो हाल ही के सालो में बहुत अधिक ध्यान आकर्षित कर रही है।

डेटा और लेनदेन का रिकॉर्ड रखना व्यवसाय का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है। इस जानकारी को घर में संभाला जाता है या दलालों, बैंकरों, या वकीलों तीसरे पक्ष से होकर गुजरना पड़ता है जो बिज़नेस में समय, लागत या दोनों को बढ़ाते हैं।लेकिन ब्लॉकचेन इस लंबी प्रक्रिया से हमे बचाता है और लेनदेन को तेज करने की सुविधा प्रदान करता है, जिसके कारण समय और धन दोनों की बचत होती है।

कुछ लोग ऐसा मानते ​​है कि ब्लॉकचेन और बिटकॉइन को एक-दूसरे के लिए उपयोग कर सकते है, लेकिन वास्तव में ऐसा सच नहीं है। ब्लॉकचेन एक ऐसी तकनीक है जो कई उद्योगों जैसे वित्त, आपूर्ति श्रृंखला, विनिर्माण आदि से संबंधित विभिन्न अनुप्रयोगों का समर्थन करती है, लेकिन बिटकॉइन एक मुद्रा है जो ब्लॉकचेन तकनीक पर निर्भर है और पूर्ण रूप से सुरक्षित है |

read also hindifreedom.com/technology/489/बिटकॉइन-क्या-है-इन-हिंदी-औ/(opens in a new tab)

3. ब्लॉकचेन कैसे काम करती है?

ब्लॉकचेन तीन प्रमुख तकनीकों का एक संयोजन है:

  1. क्रिप्टोग्राफिक कुंजी
  2. एक सहयोगी से सहयोगी का नेटवर्क जिसमें एक साझा खाता होता है
  3. नेटवर्क के लेन-देन और रिकॉर्ड को रखने के लिए कंप्यूटिंग का साधन

. क्रिप्टोग्राफी कुंजी में दो कुंजी शामिल होती हैं – निजी कुंजी एवं सार्वजनिक कुंजी। ये दोनों कुंजिया दो पक्षों के मध्य सफल लेनदेन करने में मदद करती हैं। हरेक व्यक्ति के पास ये दो कुंजीया होती हैं, जिसका उपयोग एक सुरक्षित डिजिटल पहचान करने के लिए किया जाता हैं। यह सुरक्षित पहचान ब्लॉकचेन तकनीक का सबसे जरुरी पहलू है। ब्लॉकचैन में इस पहचान को ‘डिजिटल हस्ताक्षर’ के रूप में जाना जाता है एवं इसका प्रयोग लेनदेन को अधिकृत और नियंत्रित करने में होता है |

डिजिटल हस्ताक्षर को पीयर-टू-पीयर नेटवर्क के साथ मिलाया गया है; काफी बड़ी संख्या में ऐसे व्यक्ति जो अधिकारियों के रूप में काम करते हैं, अन्य मुद्दों के बीच लेनदेन पर आम सहमति तक पहुंचने के लिए डिजिटल हस्ताक्षर का उपयोग किया जाता हैं। जब अधिकारी किसी सौदे को अधिकृत करते हैं, तो तब यह गणितीय सत्यापन द्वारा प्रमाणित होता है, जिसके फलसवरूप दो नेटवर्क से जुड़े पक्षों के बीच एक सफल सुरक्षित लेनदेन सभव होता है। ब्लॉकचेन उपयोगकर्ता सहयोगी से सहयोगी नेटवर्क पर अनेक प्रकार के डिजिटल इंटरैक्शन करने के लिए क्रिप्टोग्राफी कुंजियों को नियुक्त करते हैं।

read also deepnesswriter.com/2021/03/03/5g-technology-क्या-है-और-इसके-क्या-फायद/(opens in a new tab)

लेनदेन की प्रक्रिया

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? – ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी की कार्डिनल विशेषताओं में से एक तरीका ऐसा है जो लेनदेन की पुष्टि करता है और उसे अधिकृत करता है। उदाहरण के लिए,अगर दो लोग क्रमश जो निजी और सार्वजनिक कुंजी के साथ लेनदेन करना करते हैं, तो पहला व्यक्ति पार्टी लेन-देन की जानकारी को दूसरी पार्टी की सार्वजनिक कुंजी से आसक्त करेगा। इस जानकारी को एक ब्लॉक में एक साथ इकट्ठा किया जाता है ।

ब्लॉक में एक डिजिटल हस्ताक्षर, एक टाइमस्टैम्प, एवं दूसरी महत्वपूर्ण जानकारी है।लेकिन ब्लॉक में लेनदेन में शामिल व्यक्तियों की पहचान शामिल नहीं होती है। इस ब्लॉक को तभी नेटवर्क के सभी नोड्स में ब्राडकास्ट किया जाता है, जब सही व्यक्ति अपनी निजी कुंजी का प्रयोग करता है और ब्लॉक के साथ वह अच्छी तरह से मेल खाता है, इस प्रकार लेनदेन सफलतापूर्वक पूरा किया जाता है।

वित्तीय लेनदेन के संचालन के अलावा ब्लॉकचैन में संपत्तियों, वाहनों, आदि का लेन-देन विवरण भी रखा जा सकता है।

यह दिखाता है कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? ब्लॉकचेन कैसे काम करता है:

3.3 हैश एन्क्रिप्ट

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी डाटा को सुरक्षित करने के लिए हैश एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल करती है, और सूचना को सुरक्षित करने के लिए SHA256 एल्गोरिथ्म पर निर्भर होती है। प्रेषक का पता , रिसीवर का पता, लेन-देन, और उसका निजी कुंजी विवरण SHA256 एल्गोरिथ्म के माध्यम से भेजा जाता है। एन्क्रिप्ट की गई जानकारी को हैश एन्क्रिप्शन कहा जाता है, इस जानकारी को पूरी दुनिया में प्रसारित किया जाता है और सत्यापन के बाद ब्लॉकचेन में जोड़ा दिया जाता है। SHA256 एल्गोरिथ्म हैश एन्क्रिप्शन को हैक करने के लिए असंभव बना देता है, जो सेन्डर और रिसीवर के प्रमाणीकरण को आसान बना देता है

3.2 काम का प्रमाण

ब्लॉकचेन में प्रत्येक ब्लॉक में 4 प्रमुख हेडर होते हैं।

पिछला हैश: यह हैश पिछले ब्लॉक का पता लगाता है।
लेन-देन विवरण: सभी लेनदेन का विवरण जो की आवश्यकता होती है।
नॉनस: ब्लॉक के हैश एड्रेस को अलग करने के लिए दी गई एक मनमानी संख्या।

ब्लॉक का हैश पता: (यानी, पूर्ववर्ती हैश, लेन-देन का विवरण, और गैर) एक हैशिंग एल्गोरिथ्म के द्वारा भेजे जाते हैं। यह 256-बिट, 64 सब्द लंबाई मान वाला आउटपुट हमे देता है, जिसे विशिष्ट ‘हैश एड्रेस’ कहा जाता है। इसको ब्लॉक के हैश के रूप में भी जाना जाता है।
विश्व में कई लोग कम्प्यूटेशनल एल्गोरिदम का प्रयोग करके पूर्व-निर्धारित स्थिति को पूरा करने के लिए सही हैश मूल्य का पता लगते है। पूर्व निर्धारित शर्त पूरी होने पर ही लेन-देन पूरा होता है।

3.3 खनन

ब्लॉकचेन तकनीक में वर्तमान डिजिटल या सार्वजनिक खाता बही में लेन-देन से सम्बंदित विवरण जोड़ने की प्रक्रिया को ‘खनन’ कहते है। हालांकि यह शब्द बिटकॉइन के साथ जुड़ा है, लेकिन फिर भी इसका उपयोग अन्य ब्लॉकचेन तकनीकों के रूप में भी होता है। खनन में एक ब्लॉक लेन-देन का हैश उत्पन्न करना शामिल है जिसे जाली बनाना मुश्किल होता है, जिसके कारण केंद्रीय प्रणाली की आवश्यकता के बिना पूरे ब्लॉकचेन की सुरक्षा शामिल होती है।

read also deepnesswriter.com/2021/03/04/रॉकेट-क्या-है-और-रॉकेट-कैस/(opens in a new tab)

4. ब्लॉकचेन के फायदे

1. चेन की सटीकता

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? – ब्लॉकचेन नेटवर्क पर लेनदेन हजारों कंप्यूटरों के नेटवर्क के द्वारा किया जाता हैं। यह सत्यापन प्रक्रिया में सभी मानवीय भागीदारी को असंभव बना देता है, जिसके फलसवरूप कम से कम मानवीय त्रुटि एवं जानकारी का एक सटीक रिकॉर्ड बचता है। यदि नेटवर्क पर एक कंप्यूटर एक कम्प्यूटेशनल गलती होती है , तो त्रुटि केवल ब्लॉकचेन की एक प्रति के लिए बनाई जाती है । जिससे ब्लॉकचेन के बाकी जगहों में फैलने के लिए उस त्रुटि को कम से कम नेटवर्क 51% कंप्यूटरों द्वारा बनाने की आवश्यकता पड़ेगी जो संभव नहीं होता है |

2. लागत में कमी

सामान्यः एक उपभोक्ता एक लेनदेन को सत्यापित करने के लिए बैंक को भुगतान करता हैं | लेकिन ब्लॉकचेन तीसरे पक्ष के सत्यापन की आवश्यकता को पूरी तरह ख़त्म कर देता है और साथ ही उनकी संबद्ध लागत भी । जिससे ब्लॉकचैन में लागत में कमी होती है

3. काम का लेन-देन

कई ब्लॉकचेन नेटवर्क सार्वजनिक डेटाबेस के रूप में काम करते हैं, जिसका मतलब है कि इंटरनेट कनेक्शन वाला कोई भी व्यक्ति नेटवर्क के लेनदेन के इतिहास को देख सकता है। उपयोगकर्ता लेन-देन के विवरण को प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन उन लेनदेन के बारे में उपयोगकर्ताओं की जानकारी की पहचान नहीं कर सकते हैं।

4. अति सुरक्षित

ब्लॉकचैन एक डिजिटल हस्ताक्षर सुविधा का उपयोग करती है क्युकी इससे बिना धोखाधड़ी का लेनदेन किया जा सके और एक विशिष्ट डिजिटल हस्ताक्षर के बिना अन्य किसी उपयोगकर्ता द्वारा किसी व्यक्ति के डेटा को परिवर्तित करना संभव न हो।

5. विकेंद्रीकृत प्रणाली

सामान्यत आपको लेनदेन के लिए सरकार या बैंक जैसे नियामक प्राधिकरणों की मंजूरी लेनी होती है ; लेकिन ब्लॉकचेन में लेन-देन उपयोगकर्ताओं की आपसी सहमति से होता है , जिसके फलसवरूप सुरक्षित और तेज़ लेनदेन होते हैं।

6. स्वचालन क्षमता

ब्लॉकचैन प्रोग्राम करने योग्य होता है और ट्रिगर के मानदंडों को पूरा करने पर स्वचालित रूप से कार्यों, घटनाओं और भुगतानों को उत्पन्न करता है |

7. पारदर्शिता

ज्यादातर ब्लॉकचेन पूरी तरह से ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर होते हैं। इसका अर्थ है कि कोई भी इसका कोड देख सकता है। यह ऑडिटर्स की सुरक्षा के लिए बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी की रिव्यु करने की क्षमता देता है।

read also deepnesswriter.com/2021/03/04/एंड्राइड-क्या-होता-है-और/(opens in a new tab)

5. ब्लॉकचेन के नुकसान

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? – ब्लॉकचेन के कुछ महत्वपूर्ण निर्णय हैं जिसको अपनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण चुनौतियां भी हैं।ब्लॉकचेन तकनीक के अनुप्रयोग में बाधाएं सिर्फ तकनीकी नहीं बल्कि राजनीतिक और विनियामक भी है | आइये ब्लॉकचैन के कुछ नुक्सान भी जानते है –

  1. तकनीक लागत

हालांकि ब्लॉकचेन उपयोगकर्ताओं को लेनदेन शुल्क पर पैसे लगते है , लेकिन तकनीक मुक्त है। बिटकॉइन लेन-देन को मान्य करने के लिए उपयोग की जाने वाली “काम का प्रमाण” | कम्प्यूटेशनल शक्ति की बड़ी मात्रा में खपत होती है। दुनिया में, बिटकॉइन नेटवर्क पर लाखों कंप्यूटरों की शक्ति डेनमार्क की सालाना खपत के लगभग होती है ।

2. गति अक्षमता

ब्लॉकचैन की अक्षमताओं के लिए बिटकॉइन एक सही केस स्टडी है। ब्लॉकचेन में अगर हम एक नया ब्लॉक जोड़ते है तो बिटकॉइन के “कार्य का प्रमाण” प्रणाली में करीब दस मिनट का समय लगता हैं। उस हिंसाब से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि ब्लॉकचेन नेटवर्क पर सिर्फ सात लेनदेन प्रति सेकंड (TPS) का प्रबंधन किया जा सकता है। हालांकि अन्य क्रिप्टोकरेंसी जैसे कि Ethereum से बिटकॉइन में बेहतर प्रदर्शन किया जाता है यह अभी भी ब्लॉकचेन द्वारा सीमित हैं।

3. अवैध गतिविधि

ब्लॉकचैन नेटवर्क पर गोपनीयता उपयोगकर्ताओं को हैक से बचाता है और गोपनीयता को प्रोटेक्टेड करता है, यह ब्लॉकचेन पर अवैध व्यापार और गतिविधि की भी अनुमति देता है। अवैध लेनदेन के लिए उपयोग किए जा रहे ब्लॉकचेन का सबसे उद्धृत उदाहरण : सिल्क रोड , एक ऑनलाइन “डार्क वेब” दवा बाजार है जो फरवरी 2011 से अक्टूबर 2013 तक अवैध व्यापर कार्य कर रहा था उसके बाद इसे एफबीआई ने बंद कर दिया था।

4. नियमन

क्रिप्टोकरंसी में अनेक लोगों ने सरकार के विनियमन को लेकर चिंता जाहिर की है। हालांकि बिटकॉइन जैसी चीज़ को खत्म करना कठिन और असंभव हो रहा है क्योंकि इसका डेंटरलिज़्ड नेटवर्क बढ़ता रहता है, सरकारें सैद्धांतिक रूप से इसे क्रिप्टोकरेंसी के लिए अवैध कर सकती हैं या अपने नेटवर्क में भाग ले सकती हैं |

read also https://deepnesswriter.com/2021/03/03/machine-aur-programming-language-kya-hai/

आज के आर्टिकल में हमने जाना ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? और ब्लॉकचैन कैसे काम करती है ? इस बारे में पूरी जानकारी उम्मीद है आपको मेरी पोस्ट पसंद आयी होगी अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो कमेंट करके जरूर बताये | 2

admin

Share
Published by
admin

Recent Posts

HostBet Review Best Affordable Web Hosting in India with Free SSL and NVMe SSD

Hello all readers, today i am gonna give you review of one of the best…

12 months ago

भारत में टॉप 10 हिंदी समाचार पत्र 2021

आज हम भारत में टॉप 10 हिंदी समाचार पत्र और भारत के सर्वश्रेष्ठ हिंदी समाचार…

1 year ago

टॉप 20 मोरल स्टोरीज इन हिंदी |बेस्ट मोरल स्टोरीज इन हिंदी

टॉप 20 मोरल स्टोरीज इन हिंदी - आज आपके लिए में 20 से ज्यादा कहानियों…

2 years ago

2020 की टॉप 10 वेब सीरीज । Top Ten Web Series Of 2020 IN HINDI

हेलो दोस्तों अगर देखा जाये तो 2020 हमारे लिए एक बुरे सपने से कम नहीं…

2 years ago

टॉप 20 स्मॉल बिज़नेस आईडिया 2021 हिंदी में

टॉप 20 स्मॉल बिज़नेस आईडिया - आज के समय में हर कोई व्यवसाय करना चाहता…

2 years ago

रॉकेट क्या है ? और रॉकेट कैसे काम करता है |

आज का युग टेक्नोलॉजी का युग है इस युग में हमने अनेक टेक्नीकी आविष्कार देखे…

2 years ago